तीन से पांच साल के लिए फिक्स डिपॉजिट पर बैंक दे रही है 7.5 फीसदी तक ब्याज, जानें पूरी जानकारी

फिक्स्ड डिपोसिट

इन दिनों Fixed Deposit पर बैंक के तरफ से ग्राहकों को अच्छी खासी रिटर्न मिल रही है। फिक्स डिपॉजिट पर बढ़ते रेपो रेट में एफडी को सुनहरा मौका दिया है। जैसे-जैसे रेपो रेट बढ़ता जाता है। रिजर्व बैंक एफडी में भी वृद्धि करते जा रहे हैं। आज हम बात करेंगे ऐसे ही फिक्स्ड डिपॉजिट के बारे में जो कम अवधि के लिए ज्यादा फ़ीसदी का ब्याज ग्राहकों को देने जा रही है।

आइए 10 बैंकों की एफडी स्कीम के रेट देख लेते हैं जो 3 से 5 साल की जमा राशि पर बेहतर रिटर्न दे रही है। यह रेट 6.0% से लेकर 7.5 फीसदी तक हो सकता है।

5 बैंक जो दे रही है 7% से ज्यादा ब्याज

  1. पहला फिनकेयर स्मॉल फाइनेंस बैंक जो 3 से 5 साल की एफडी पर 7.50% ब्याज दे रही है।
  2. दूसरी स्मॉल फाइनेंस बैंक जो 7.35% व्यास दे रही है।
  3. तीसरे उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक का नाम जो 3 से 5 साल की एफडी पर 7.20% ब्याज दे रही है।
  4. इसके बाद ड्यूश बैंक का नाम आता है जिसमें ग्राहकों को 3 से 5 साल की मैच्योरिटी वाली एफबी पर 7 फीसद ब्याज दे रही है।
  5. पांचवा नंबर बंधन बैंक का है जो 3 से 5 साल की एफडी पर 7 फ़ीसदी ब्याज दे रहा है।

5 बैंक जो दे रही है 7% से काम ब्याज

  1. इसके बाद एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक का नाम है जो 3 से 5 साल में मैच्योर होने वाले एफडी पर 6.9 फीसद ब्याज दे रही है।
  2. Induslnd Bank अपने ग्राहकों को सिक्स पॉइंट 75 फ़ीसदी की दर से ब्याज दे रहा है।
  3. यस बैंक भी इसी दर से ग्राहकों को एफडी पर ब्याज दे रहा है।
  4. इसके बाद सूर्योदय स्मॉल फाइनेंस बैंक का नाम है जो 3 से 5 साल की एफडी पर 6.7 फीसद ब्याज दे रही है।
  5. दसवें स्थान पर डीसीबी बैंक है जो एफडी पर सिक्स पॉइंट 6 0% ब्याज दे रही है।

कैसे मिलता है FD पर लाभ?

उदाहरण के लिए, अगर आपने 5 साल की एफडी खरीदी है, तो हर तिमाही मिलने वाला ब्याज शुरुआती जमा राशि के साथ जुड़ता जाएगा। फिर अगली तिमाही में ब्याज और जमा राशि की कुल रकम पर ब्याज जोड़ा जाएगा।

अगर आप 3 से 5 साल के लिए फिक्स्ड डिपाजिट नहीं चाहते हैं तो आप उससे ज्याद या काम का ले सकते हैं। अलग अलग तरह की एफडी बैंक के पास मौजूद है।

एफडी की ये राशि आपको आपके कठिन समय के लिए बहुत ही काम में आ सकता है। हर कोई अपने जीवन में कोई न कोई स्कीम जरूर चला रहा होता है। जो उसके कठिन परिस्थिति में उनको काम में आए।

इसे भी पढ़ें:

सरकार ने तेजी से नौकरी-बहाली को लेकर उठाया कड़ा कदम, नीतीश ने मुख्य सचिव को दिया सख्त आदेश