Bihar Teacher: बिहार के शिक्षकों के अवकाश के संबंध में आधिकारिक जानकारी। शिक्षकों के लिए अति आवश्यक!

Bihar Teacher

Bihar Teacher: बिहार के शिक्षकों को नियोजन नियमावली 2012 के अधीन निम्न अवकाश देय है जिसके बारे में ज्यादा तर शिक्षकों को पता नहीं होता या उन्हें विभाग द्वारा यह जानकारी दी ही नहीं जाती है।

Bihar Teacher
Bihar Teacher

सभी प्रकार के अवकाश और उसकी शर्तें

आकस्मिक अवकाश (Casual Leave): एक कैलेण्डर वर्ष में 16 (सोलह) दिनों का आकस्मिक अवकाश सरकार द्वारा देय है। यह अवकाश (अन्य अवकाश सहित) एक साथ 10 (दस) दिनों से अधिक के लिए मान्य नहीं है।

विशेष अवकाश (Special Leave): महिला शिक्षिकाओं को प्रत्येक माह में 02 (दो) दिनों का विशेष अवकाश अनुमान्य है, इसमें उम्र की सिमा 45 वर्ष है ।

मातृत्व अवकाश (Maternity Leave): महिला शिक्षिका 180 (एक सो अस्सी) दिनों की मातृत्व अवकाश दिया जाता है। मातृत्व अवकाश मात्र पहले दो संतानों के लिए मान्य है।

Maternity Leave

Bihar Teacher पितृत्व अवकाश (Paternity Leave) के सम्बन्ध में

पुरुष शिक्षकों के लिए 15 (पन्द्रह) दिनों के पितृत्व अवकाश मान्य है। पितृत्व अवकाश मात्र पहले दो संतानों के लिए मान्य है।

चिकित्सा अवकाश (Medical Leave): एक कैलेण्डर वर्ष में 20 (बीस) दिनों का चिकित्सा अवकाश, चिकित्सा प्रमाण पत्र के आधार पर अनुमान्य है, पूरी सेवा अवधि में कुल 120 (एक सो बीस) दिनों तक ही चिकित्सा अवकाश संचित होगा।

किसी भी एक कैलेण्डर वर्ष में यह अवकाश 90 (नव्वे) दिनों के लिए ही मान्य है। इसे आकस्मिक अवकाश के साथ पूर्व या पश्चात् जोड़ा जा सकता है।

अर्जित अवकाश (Earned leave): शिक्षकों को प्रथम दो वर्ष की सेवा के उपरान्त प्रत्येक वर्ष में 11 (ग्यारह) दिनों की छुट्टी अर्जित करते हुए अधिकत्तम 120 (एक सो बीस) दिनों तक संचित होता है। 120 दिनों से अधिक अर्जित अवकाश स्वतः समाप्त हो जाता है।

अध्ययन अवकाश (Study leave): शिक्षक को उनकी सेवा अवधि में अधिकतम 03 (तीन) वर्ष के लिए अवैतनिक अध्ययन अवकाश अनुमान्य है। इस अवकाश की अवधि को सेवा में टूट नहीं माना जाता है। यह अवकाश योगदान के 03 वर्ष की न्यूनतम कालावधि पूर्ण करने के उपरांत ही देय होता है।

असाधारण अवकाश (Extraordinary leave): उपर्युक्त अवकाशों के अतिरिक्त किसी कारणवश एक कैलेन्डर वर्ष में 30 (तीस) दिनों की अवधि के लिए अवैतनिक “असाधारण अवकाश” अनुमान्य होता है।

इसके कारण सेवा में टूट नहीं माना जाता है। तत्पश्चात अनुपस्थित की अवधि को सेवा में टूट माना जायेगा तथा वेतन देय नहीं होगा। अधिकतम 05 (पांच) वर्ष तक अनुपस्थित रहने की स्थिति में सेवा समाप्त हो जाता है।

कैसे कराएं अवकाश स्वीकृति

आकस्मिक अवकाश एवं विशेष अवकाश को छोड़कर शेष सभी प्रकार के अवकाशों की स्वीकृति संबंधित प्रधान अध्यापक/ प्रभारी प्रधान अध्यापक की अनुशंसा पर संबंधित नियोजन इकाई के सदस्य सचिव के द्वारा अध्यक्ष की सहमति से की जाती है।

यह भी पढ़ें

राज्य के सभी जिलों का शिक्षक छुट्टी लिस्ट यहाँ से देखें।

Responses (2)

  1. Mere pita ji ko cancer hai
    .
    Mere bhai bahan abhi ilaj karwa pane me saksham nahi hai atah mujhe hi unka ilaaj karwana parega , aise me mujhe chitti kaise milegi .

Leave a Reply

Your email address will not be published.