शिक्षा विभाग: वेतन निर्धारण के बाद 3.5 लाख शिक्षकों को मिलेगी बढ़ी हुई सैलरी, किस को कितना जानने के लिए पढ़े पूरी खबर।

राज्य के पंचायतीराज एवं नगर निकायों के प्राथमिक विद्यालयों से लेकर उच्च माध्यमिक विद्यालयों के 3.5 लाख शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यक्षों के 15 प्रतिशत बढ़े हुए वेतन के भुगतान के लिए वेतन निर्धारण होगा।

15 प्रतिशत बढ़े हुए वेतन का भुगतान 1 अप्रैल 2021 के प्रभाव से होगा। 1 अप्रैल, 2021 के प्रभाव से शिक्षकों के मूल वेतन में 15 प्रतिशत की वृद्धि होगी।

1 अप्रैल, 2021 के प्रभाव से मूल वेतन में 15 प्रतिशत की बढ़ोतरी के भुगतान के लिए राज्य सरकार के शिक्षा विभाग ने शुक्रवार को आदेश जारी किया है।

आपको याद दिला दूं कि पंचायतीराज एवं नगर निकाय शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यक्षों के लिए 5200 से 20200 के वेतनमान के साथ ग्रेड पे क्रमशः 2000, 2400 एवं 2800 लागू है।

यह भी प्रावधानित है कि उन्हें समय-समय पर राज्य सरकार के कर्मियों के अनुरूप घोषित महंगाई भत्ता, चिकित्सा भत्ता, मकान किराया भत्ता एवं देय वार्षिक वेतनवृद्धि देय होगा।

साथ ही ग्रेड पे की देयता उनकी सेवा के दो वर्ष पूरा होने के उपरांत देय होगा। शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यक्षों के लिए पे-मैट्रिक्स तय है।

इस बीच शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यक्षों के वर्तमान वेतन संरचना में सुधार के लिए राज्य सरकार ने एक अप्रैल, 2021 के प्रभाव से उनके मूल वेतन में 15 प्रतिशत की वृद्धि का आदेश 29 अगस्त, 2020 को जारी किया था।

उसके बाद वेतन निर्धारण के लिए गत मार्च माह में फ़ाइल वित्त विभाग गयी थी। वित्त विभाग के परामर्श के बाद शिक्षा विभाग ने वेतन निर्धारण का आदेश जारी किया है।

इसके मुताबिक पे मैट्रिक्स के तहत शिक्षकों एवं पुस्तकालयाध्यक्षों के मूल वेतन में 1.15 से गुणा कर जो राशि आयेगी, उसे पे मैट्रिक्स के सापेक्ष अथवा ठीक ऊपर के लेवल के अनुसार निर्धारित करते हुए एक अप्रैल, 2021 से वित्तीय लाभ अनुमान्य होगा।