Happy Children’s Day: आज है जन्म दिवस मेरे चाचा नेहरू का.’ बाल दिवस के मौके पर शेयर करें ये खास संदेश।

Happy Children’s Day 2021 | चाचा नेहरू के बारे में दो शब्द 

देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को देश आज याद कर रहा है। देशभर में उनकी जयंती मनाई जा रही है। इस खास मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह तमाम दिग्गज नेताओं ने उन्हें नमन किया।

वहीं कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज शांतिवन में भी जवाहरलाल नेहरू को उनकी जयंती पर पुष्पांजलि अर्पित की।

स्वतंत्र भारत के बाद देश की बागडोर संभालने वाले पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की आज जयंती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर देश के पहले प्रधानमंत्री को ट्वीट कर श्रद्धांजलि दी है। पीएम मोदी ने ट्वीट में लिखा है, “देश के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरू जी को उनकी जयंती पर मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।’

Children's Day

वहीं बिहार के राज्यपाल फागू चौहान और सीएम नीतीश कुमार ने भी जवाहरलाल नेहरू की जयंती पर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की।

बता दें कि पंडित नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 को उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद ( प्रयागराज) में हुआ था। पंडित नेहरू को बच्चों से अधिक लगाव था। इसलिए उन्हें बच्चे उन्हें चाचा नेहरू कहकर बुलाते थे।

पंडित नेहरू की जयंती को बाल दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। साल 1964 में पंडित नेहरू के निधन के बाद उनकी जयंती के दिन ही बाल दिवस मनाया जाने लगा।

पंडित नेहरू वर्ष 1947 में देश की आजादी के बाद पहले प्रधानमंत्री बने थे। वे साल 1964 में अपनी मृत्यु तक पीएम पद पर काबिज रहे।

भारत में हर साल 14 नवंबर को ‘बाल दिवस’ यानी चिल्ड्रेंस डे के रूप में मनाया जाता है।

साल 1964 में 14 नवंबर के दिन भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की जयंती के मौके पर देश में पहली बार ‘बाल दिवस’ मनाया गया था।

तभी से हर साल यह परंपरा चली आ रही है। पंडित जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रुप में इसलिए चुना गया क्योंकि नेहरू जी का बच्चों के प्रति विशेष स्नेह था।

उनका मानना था कि बच्चे देश के भविष्य के निर्माता हैं। अगर देश का भविष्य सुरक्षित रखना है तो बच्चो का भविष्य अच्छा बनाना हम सभी भारतीयों का कर्तव्य होना चाहिए।

बच्चे भी प्यार से जवाहर लाल नेहरू को ‘चाचा नेहरू’ कहकर पुकारते थे। नेहरू जी ने बच्चों के भविष्य को तैयार करने के लिए IIT और IIM जैसे जाने-माने संस्थानों की स्थापना की थी।

चिल्ड्रेंस डे के मौके पर हर स्कूलों में जहां प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है वहीं बच्चे भी अपने चाचा नेहरू को याद करते हैं।

इस मौके पर आप भी इन कोट्स और मैसेज के जरिए बाल दिवस और चाचा नेहरू के जन्मदिवस की बधाइयां दे सकते हैं-

1- आज है जन्म दिवस मेरे चाचा नेहरू का,
मेरा उनका नाता दिया बाती का,
चाचा का है प्यारा फूल गुलाब,
मैं तो कहूं इन्कलाब जिंदाबाद।
Happy Children’s Day

2- चाचा का है जन्मदिवस
सभी बच्चे आएंगे,
चाचा जी के फूल गुलाब सा.
हम शमां को महकाएंगे !!
Happy Children’s Day

3- मां की कहानी थी, परियों का फसाना था,
बारिश में कागज की नाव थी,
बचपन का हर वो मौसम सुहाना था।।

4- आज का दिन है बच्चों का,
कोमल मन का और कच्ची कलियों का,
मन के सच्चे ये प्यारे बच्चे,
चाचा नेहरु को हैं प्यारे बच्चे।
Happy Children’s Day

5- एक बचपन का जमाना था,
होता जब खुशियों का खजाना था,
चाहत होती चांद को पाने की थी,
पर दिल तो तितली का दिवाना था।
Happy Children’s Day

 

आज का दिन है बच्चों का, कोमल मन का और कच्ची कलियों का.

आज का दिन है बच्चों का,
कोमल मन का और कच्ची कलियों का,
मन के सच्चे ये प्यारे बच्चे,
चाचा नेहरु को हैं प्यारे बच्चे।

दुनिया का सबसे सच्चा समय, दुनिया का सबसे अच्छा दिन.

दुनिया का सबसे सच्चा समय,

दुनिया का सबसे अच्छा दिन,

दुनिया का सबसे हसीन पल,

सिर्फ बचपन में ही मिलता है।

Happy Children’s Day

देश की प्रगति के हम हैं आधार,

करेंगे हम चाचा नेहरू के सपने साकार!!

 

आज बाल दिवस है। यह हर साल 14 नवंबर को मनाया जाता है। यह दिन बच्चों को समर्पित होता है। इस दिन स्कूल, कॉलेजों में सांस्कृतिक कार्यक्रम किए जाते हैं,

जिनमें चाचा नेहरू के विचारों को बच्चों के माध्यम जन-जन तक पहुंचाने की कोशिश किए जाते हैं।

इन कार्यक्रमों में बच्चे बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते हैं। पंडित नेहरू को बच्चों से अगाध स्नेह था। इसके लिए बच्चे प्यार से उन्हें चाचा कहकर पुकारते हैं।

चाचा नेहरू हमेशा कहते थे कि देश के स्वर्णिम विकास में बच्चे की अहम भागीदारी है। इस मौके पर बच्चे-बड़े सभी अपने दोस्तों और प्रियजनों को सोशल मीडिया और मोबाइल पर संदेश भेजकर शुभकामनाएं देते हैं।

आप भी अपने प्रियजनों को इन संदेशों के जरिए बाल दिवस की शुभकामनाएं दे सकते हैं-

1.

चाचा नेहरू आपको सलाम,

अमन शांति का दे पैगाम,

जंग को जंग से तूने बचाया,

किया अपना जन्मदिवस बच्चों के नाम।

चाचा नेहरु तुझे सलाम।

2.

बाल दिवस है चाचा का जन्मदिवस,

ये है हम सबको प्यारा,

काश आज भी होते हमारे साथ चाचा प्यारे,

इनका प्यार है सबसे न्यारा।

3.

सबके मन को भाते चाचा नेहरू,

बच्चों को हँसाते चाचा नेहरू,

दिल में भरा अनोखा प्यार,

करते वो बच्चों को प्यार बेशुमार।

4.

चाचा नेहरू तुझे सलाम

अमन शांति का दे पैगाम

जग को जंग से तूने बचाया

हम बच्चों को भी मनाया

किया अपना जन्मदिवस बच्चों के नाम

चाचा नेहरू तुझे सलाम।

5.

मैडम आज ना डांटना हमको

आज हम खेले गाएंगे

साल भर हमने किया इंतज़ार

आज हम बाल दिवस मनाएंगे।

6.

फूलों के जैसे महकते रहो

पंछी के जैसे चहकते रहो

सूरज की भांति चमकते रहो

तितली के जैसे मचलते रहो

मम्मी डैडी का आदर करो

सुन्दर भावों से मन को भरो

ये है हमारी शुभ कामना

हँसते रहो, मुस्कुराते रहो।

7.

आज है जन्म दिवस मेरे चाचा नेहरु का

मेरा उनका नाता दिया बाती का

चाचा का है प्यारा फूल गुलाब

मैं तो कहूं इन्कलाब जिंदाबाद।

8.

ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो

भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी

मगर मुझको लौटा दो बचपन का सावन

वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी।

9.

देश की प्रगति का हम है आधार

हम करेंगे चाचा नेहरू के सपने साकार।

10.

सूरज रोशनी ले कर आया और चिड़ियों ने गाना गाया,

फूलों ने हंस-हंस कर बोला मुबारक हो तुम्हारा जन्म दिन आया।

 

जवाहरलाल जी को ”चाचा नेहरू” कहकर पुकारते थे बच्चे

14 नवंबर 1889 को उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में जन्में जवाहरलाल नेहरू को बच्चों से खासा लगाव था और बच्चे उन्हें ”चाचा नेहरू” कहकर पुकारते थे।

भारत में 1964 से पहले तक बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता था, लेकिन 27 मई 1964 को पंडित जी के निधन के बाद यह फैसला किया गया कि अब से हर साल 14 नवंबर को चाचा नेहरू के जन्मदिवस पर बाल दिवस मनाया जाएगा।

किस देश में कब बनाया जाता है बाल दिवस

-बाल दिवस साल 1925 से मनाया जाने लगा था
-यूएन ने 20 नवंबर 1954 को बाल दिवस मनाने की घोषणा की थी।
-कई देशों में एक जून को बाल दिवस के तौर पर मनाया जाता है।
-कुछ देश संयुक्त राष्ट्र की घोषणा के अनुरूप 20 नवंबर को यह दिवस मनाते हैं।

बच्चों को लेकर क्या थी नेहरू जी की सोच

-बच्चे ही देश का भविष्य होते हैं
-उनके विकास से देश के विकास को मजबूती मिलती है।-
-जितना शक्तिशाली देश का बच्चा होता हैं उतना ही उज्ज्वल उस देश का भविष्य होता है।
-बच्चों की शिक्षा व बेहतर जीवन के लिए नेहरू जी ने हमेशा आवाज उठाई।

बच्चों के लिए क्यों महत्वपूर्ण है ये दिन

इस दिन का इंतजार हर बच्चे को होता है। ये दिन पूरी तरह से उनकाे समर्पित होता है। इस दिन सभी बच्चों को खासतौर पर गरीब व लाचार बच्चों को मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराने एवं बाल श्रम एवं बाल शोषण जैसे गंभीर मुद्दों पर भी विचार विमर्श किया जाता है।

बाल दिवस के दिन कई स्कूलों में पढ़ाई नहीं होती है और म्यूजियम, चिड़िया-घर, तारामंडल व अन्य शैक्षणिक जगहों पर पिकनिक के लिए ले जाता है। साथ ही, चॉकलेट, बिस्किट, कपकेक जैसे छोटे-मोटे गिफ्ट्स दिये जाते हैं।

 

हर वर्ष 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता है। यह दिन बच्चों को समर्पित होता है। इस दिन भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म हुआ था।

पंडित जवाहरलाल नेहरू को बच्चों से बेहद लगाव था। इसके लिए चाचा नेहरू के जन्मदिन पर बाल दिवस मनाया जाता है। इस दिन स्कूल, कालेजों में कई सांस्कृतिक कार्यक्रम किए जाते हैं।

बच्चे चाचा नेहरू को यादकर उनके पदचिन्हों पर चलने का संकल्प लेते हैं। साथ ही गायन और नृत्य प्रतियोगिता किया जाता है। इस मौके पर बच्चे बॉलीवुड सांग्स का सहारा लेते हैं।

इन बॉलीवुड सांग्स के जरिए बाल दिवस पर बच्चों को हार्दिक शुभकामनाएं दे सकते हैं –

1. फिल्म-मासूम

लकड़ी की काठी,

काठी पे घोड़ा

घोड़े की दुम पे जो मारा हथौड़ा

दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा

लकड़ी की काठी,

काठी पे घोड़ा

घोड़े की दुम पे जो मारा हथौड़ा

दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा

2. फिल्म-तारें जमीन पर

बम बम बोले, मस्ती में तू डोल रे

बम बम बोले, मस्ती में डोले

बम बम बोले,मस्ती में तू डोल रे

हे बम बम बोले, मस्ती में डोले

बम बम बोले, मस्ती में तू डोल रे

3. फिल्म-मासूम

छोटा बच्चा जान के ना कोई आंख दिखाना रे (टुपी टुपी टाप टाप)

अकल का कच्चा समझ के हमको ना समझाना रे (टुपी टुपी टाप टाप)

भोली सूरत जान के हमसे ना टकराना रे

नाधिन-धिना नाधिन-धिना नाच नचा देंगे

छोटा बच्चा जान के…

4. फिल्म-फना

चंदा चमके चम चम

चीखें चौकन्ना चोर

चिटी चाटे चिनी चटोरी चिनीखोर

चंदा चमके चम चम

चीखें चौकन्ना चोर

चिटी चाटे चिनी चटोरी चिनीखोर

कितना मुश्किल ये गाना

जरा गाके दिखाना

चंदा चिनी चमके चाटे चौकन्ना चीखे चोर

5. फिल्म-सन ऑफ इंडिया

नन्हा मुन्ना राही हूं,

देश का सिपाही हूं,

बोलो मेरे संग

जय हिंद, जय हिंद, जय हिंद

रास्ते में चलंगा न डर-डर के

चाहे मुझे जीना पड़े मर-मर के

मंज़िल से पहले ना लूंगा कहीं दम

आगे ही आगे बढ़ाऊंगा कदम

दाहिने-बाएं, दाहिने-बाएं, थम

नन्हा मुन्ना.

मां बदला लेने जाना है, दुश्मन के बच्चों को पढ़ाना है

कलम की जो जगह थी वो वही है।

पर उसका नाम तक बाकी नहीं हैं

कलम की नोक पे नुक्ता है कोई

जो सच हो वो भला रुकता है कोई।