Meri Raftaar Pe Suraj Ki Kiran Naaz Kare

Play: Meri Raftaar Pe Suraj Ki Kiran Naaz Kare!


Meri Raftaar Lyrics in Hindi

मेरी रफ्तार पे सूरज की किरण नाज़ करे

ऐसी परवाज दे मालिक कि गगन नाज़ करे

वो नज़र दे कि करुँ कद्र हरऐक मजहब की

वो खुशबू से महक जाये ये दुनिया मालिक

मुझको वो फूल बना सारा चमन नाज़ करे

इल्म कुछ ऐसा दे मैं काम सबों के आऊँ

हौसला ऐसा ही दे गंग – जमन नाज़ करे

आधे रास्ते पे न रुक जाये मुसाफिर के कदम

शौक मंजिल का हो इतना कि थकन नाज़ करे

दीप से दीप जलायें कि चमक उठे बिहार

ऐसी खूबी दे ऐ मालिक कि वतन नाज़ करे

जय बिहार जय बिहार जय जय जय जय बिहार